Tag: hindi poetry

September 3, 2017 / / Poetry

कुछ जवाब अधूरे, कभी नींद मे चाहा करूँ पूरे। पर नींद अकेली कहाँ है होती, बस…

Read the Postमन-अंतरंग