मन-अंतरंग

beach side at palolem

कुछ जवाब अधूरे, कभी नींद मे चाहा करूँ पूरे। पर नींद अकेली कहाँ है होती, बस ये आँखें ही हैं सोती।। […]

Continue Reading